शनिवार, 30 अक्तूबर 2010

"धंवर पछै सूरज" री कवितावां

( चयन : नीरज दइया)


कुदरत री पड़
मौकळै मेह पछै
दूर आभै में
ऊंट-घोड़ियै-सा
ऊभा बादळ
जाणै टग्योड़ी होवै-

पाबू जी री पड़
अर आगै खड़िया
ऊंचा-ऊंचा दरखत
जाणै- भोपा-भोपी
उण नै बांचै ।
***

लुगायां
इत्ती भाजो-भाज में
याद राखल्यै बै
गीत

जमानै रो इत्तो विस
पीर ई
बै उबार ल्यै
कंठा में
इत्तो मिठास
सीधी-सादी लुगायां ।
***

सौरम री बात
बात-बेसक
रोटी री सौरम री करो
पण पैली-पैली बिरखा री
उण सौरम नै क्यूं भूलो
जकी सूं
आस जागै
रोटी री ।
***

कुदरत रै आगै
पाड़ोसी बगा देवै
गळी में थोड़ो-घणो पाणी
तो आपां
मरण नै त्यार हो जावां

पण मेह रै पाणी नै
जूतियां खोल
लांघ ज्यावां ।
***



जुग धरम
बातां करो हो
जुग धरम री

पण कद हो
साबतो सतजुग ?
अर अब कठै है ?
सौ पीसा कळजुग

झूठ-सांच री लड़ाई तो
धुर सूं चालती आई है
अर चालती ई रैवैली ।
***

सग्गा
बै कैवण में
सग्गा तो अवस कहिजै
पण जाबक ई नीं समझै
सग्गै तो संकट !

छुछक, भात,
ओढावणी अर दायजो
लेंवती बेळा
कदै ई नीं सोचै
कै सग्गो
कळीज तो नीं गयो
करज रै कादै !
***

धंवर पछै सूरज
आखै सियाळै
धंवर ई धंवर

जी दोरौ हुयो घणो
पण
इत्तो सतोख ई हुयो
कै तरसणो नीं पड़ियो
तावड़ै बैठण सारू ।

दस दिन री
धंवर पछै
आज थे निकळिया
तो लाग्यो-
बसंत
आयग्यो है ।
***
(राजस्थानी कविता संग्रह "धंवर पछै सूरज" सूं)

1 टिप्पणी:

  1. अंतरजाळ रै आंगणै अर ब्लोगजगत में
    आपरो सुआगत है निशान्त जी !
    ओ तो भोत सांतरो अनै जोरदार काम करियो सा !
    अब आपरी नूंई रचनावां पढण नै मिल सकसी !
    "धंवर पछै सूरज " तो पढ्योडी है !खैर !
    अंतरजाळ माथै तो पै’ली ई बार पढी़ है-बधायजै सा !

    उत्तर देंहटाएं